Special Frontier Force में नौकरी कैसे करें? bitcoin4buying

आप मे से कई लोगो ऐसे होंगे जो देश की आर्मी के बारे में पूरी जानकारी रखते होंगे, बहुत से लोग केवल देश की प्रमुख तीन सेनाओं यानी भारतीय सेना, वायु सेना और नौसेना के बारे में ही जानते हैं. आज हम आपको बताएँगे की स्पेशल फ्रंटियर फ़ोर्स कैसे ज्वाइन करें?

लेकिन क्या आपको पता है कि इन सेनाओं के अलावा देश मे और भी कई अन्य सैन्य बल हैं, जिनका देश की सुरक्षा में महत्वपूर्ण योगदान हमेशा ही रहता है.

यहां हम अर्धसैनिक बलों के बारे में बात कर रहे हैं एवं देश के उन उन सभी अर्धसैनिक बलों में से आज का हमारा यह लेख SSF यानी स्पेशल फ्रंटियर फोर्स (Special frontier force) के बारे में है.

अतः आप इस लेख को अंत तक पढ़े ताकि आपको पूरा पता चल सके की “स्पेशल फ्रंटियर फोर्स” क्या है.

स्पेशल फ्रंटियर फोर्स क्या है – What is Special Frontier Force in Hindi

आप इस बात से परिचित होंगे कि हमारे देश में वर्तमान में कई तरह के अर्धसैनिक बल है.

जैसे सीआरपीएफ (crpf), बीएसएफ (bsf), आईटीबीपी (otbp), सीआईएसएफ (crpf), एसपीजी (spg), एसएसबी (ssb), एनएसजी (nsg) , भारतीय तटरक्षक (bhartiya tatrakshak), असम राइफल्स (asam rifels) उसी तरह हमारे देश मे एक ओर अर्धसैनिक फ़ोर्स है जिसे हम स्पेशल फ्रंटियर फोर्स यानी एसएफएफ (ssf) यह भी एक अर्धसैनिक बल है.

इस स्पेशल फ्रंटियर फोर्स का गठन 14 नवंबर 1962 में हुआ था यह भारत की एक विशेष अर्धसैनिक बल है. इस अर्धसैनिक बल फ़ोर्स का मुख्यालय चकराता (उत्तराखंड) में है.

इस अर्धसैनिक बल में जिसे हम स्पेशल फ्रंटियर फोर्स के नाम से जानते है, में वर्तमान में इसमे 10,000 से ज्यादा सैनिक कार्यरत हैं.

भारत मे इस फोर्स का मुख्य लक्ष्य काफी महत्वपूर्ण है को की मूल रूप से चीन देश के साथ अगले संघर्ष की तैयारी करना था एवम इसके साथ ही इसका गठन चीनी सेना की गतिविधियों को अपनी भारतीय आर्मी / सेना तक पहुंचाने के लिए किया गया था.

इस सैन्य बल को देश मे आतंकवाद गतिविधियों को रोकने, आकस्मिक युद्ध और उससे जुड़ी खुफ़िया जानकारी जुटाने के लिए प्रशिक्षित किया गया था उसके लिए उन्हें ट्रेनिंग भी गई थी ओर वर्तमान में दी भी जाती है.

इस अर्धसैनिक बल का प्रशिक्षण सीधा प्रधानमंत्री करते हैं यानी यह देश मे सीधे प्रधानमंत्री के अधीन होती है.

इसकी अर्धसैनिक की देखरेख देश मे रक्षा मंत्रालय के सुरक्षा महासचिव करते हैं. यह स्पेशल फ्रंटियर फोर्स भारत मे  “रॉ” की एक शाखा है.

“रॉ” एजेंसी के डायरेक्‍टर जनरल इस बल के चीफ होते हैं। इस बल ने अब तक देश में कई सफल ऑपरेशन किए हैं.

इसके अंतर्गत मिलने वाले पद

अगर आप देश के इस अर्धसैनिक बल के कार्य करना चाहते है तो आपको इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि आप किन किन posts पर जॉब पा सकते है ताकि आपको पता रहे कि आप किस रैंक व किस पोस्ट तक जा सकते हैं.

  • डायरेक्टर जनरल
  • अतिरिक्त डायरेक्टर जनरल
  • इंस्पेक्टर जनरल
  • डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल
  • अतिरिक्त डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल
  • कमांडेंट
  • असिस्टेंट कमांडेंट
  • सब मेजर 
  • इंस्पेक्टर
  • सब इंस्पेक्टर
  • असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर
  • हेड कांस्टेबल
  • कांस्टेबल
  • फॉलोवर्स

इन सब पोस्ट पर आप हालांकि शुरूआत दौर में नही आ सकते क्योंकि इसमें आपकी पोस्टिंग निम्न स्तर पर होती है और उसके बाद आपका उच्च पदों पर प्रोमोशन या आंतरिक भर्ती के माध्यम से होता है.

इस अर्धसैनिक बल में आसानी से अपनी भर्ती करा सकते है जिसके लिए आपको कुछ एग्जाम देने होंगे जिनके बारे में आपको आगे बताया गया है.

इन पोस्ट में आपको दो तरीको से भर्ती किया जा सकता है एक तो बाहरी भर्ती ओर एक आंतरिक भर्ती.

इस लेख में आपको दोनो तरीको के बारे के बताया जाएगा ताकि आपको भविष्य में इससे संबंधित कोई दिक्कत न हो.

आवश्यक योग्यता (Required eligibility)

आप किस प्रकार से इस सैनिक बल में नौकरी पाने के लिए क्या क्या आवश्यक योग्यताएं है जिनके बारे में आपको इस लेख में बताया गया है. आप इसे ध्यान पूर्वक पढ़े.

इस भर्ती में आवेदन करने वाले अभियर्थियों के लिए यह जरूरी है कि वे भारत के किसी भी राज्य के मूल निवासी यानी भारत के ही निवासी होने चाहिए.

  • इस भर्ती में आवेदन करने के लिए अभियार्थी की आयु 18 या 21 से ज्यादा एवं अधिकतम आयु 35 होनी चाहिए. इन आयु के अलावा इसमे आरक्षण के अनुसार के सारी छूट भी दी जाती है. जो कि नियमानुसार सब प्रार्थियो को दी जाती हैं.
  • इस भर्ती में आवेदन करने वाले विद्यार्थियों को स्नातक पास किया हुआ होना चाहिये, हालांकि इसमे यह जरूरी नही है कि अभियार्थी किस वर्ग से स्नातक किया हो या कितने नंबर से पास हुआ हो.
  • आवेदक जो इस पद या इस अर्धसैनिक बल के लिए आवेदन करना चाहता है उसके लिए यह जरूरी है की वह शारीरिक व मानसिक रूप से सही हो यानी वह भारतीय आर्मी की आवश्यकता के अनुसार अपनी शारीरिक क्षमता को रखता हो.
  • आवेदक जो इस पोस्ट पर अपना आवेदन देना चाहते है उनके लिए यह भी जरूरी है कि वे ऐसी किसी भी गंभीर बीमारी से ग्रसित न हो तो बाते में उसके लिए खतरनाक हो, इस बात का विशेष ध्यान रखे.

इन योग्यताओं को केवल रिसर्च के आधार पर ही बताया गया है, इसको आप आधिकारिक नोटिफिकेशन पर
पर एक बार चेक जरूर कर ले.

Special Frontier Force ज्वाइन करने की प्रक्रिया?

इस परीक्षा के 5 प्रोसेस जो काफी जरूरी है:

शारीरिक प्रशिक्षण

इस प्रक्रिया ने सवर्प्रथम जो भी अभियार्थी आवेदन करते है उनका का शारीरिक प्रशिक्षण किया जाता है. इसमे आपकी height, weight नियमानुसार है या नही यह देखा जाता है.

इस प्रक्रिया में जो पास हो जाता है उनको अगले चरण में भेज दिया जाता है.

लिखित परीक्षा

द्वितीय चरण में आवेदक की लिखित परीक्षा ली जाती है जिसमे आवेदक का written exam होता है जो कि objective type का होता है.

इस परीक्षा को पास करने के बाद अभियार्थी अगले चरण में जाते है.

Skill टेस्ट

जो अभियार्थी लिखित परीक्षा पास कर लेते है उनके लिए यह एक काफी महत्वपूर्ण भूमिका होती है कि वह अपनी skills की साबित करे, ओर खुद को एक योद्धा के रूप में दिखाए.

इसके बाद अभियर्थियों को अगले चरण में भेज दिया जाता है.

मेडिकल एग्जाम

इसके बाद अगले चरण में आवेदक का मेडिकल प्रशिक्षण किया जाता जी जिसमे उसकी मेडिकल की हिस्ट्री में बारे के देखा जाता है. इसके बाद अभियार्थी को अगले चरण में भेज दिया जाता है.

साक्षात्कार (Interview)

अगले चरण में आवेदक को अपने दस्तावेज़ों के साथ बुलाया जाता है और उनका mock इंटरव्यू लिया जाता है. इस प्रोसेस के बाद आवेदक का फाइनल मेरिट के आधार पर सिलेक्शन होता है.

इस एग्जाम को भारत मे स्टाफ सिलेक्शन कमीशन दुवारा आयोजित करवाया जाता है जो कि काफी महत्वपूर्ण एग्जाम होता है.

FAQ – Frequently Asked Question

प्रश्न 1 – स्पेशल फ्रंटियर फोर्स क्या होती है?

उत्तर – यह भारत मे अर्धसैनिक बल के तौर पर कार्य करता है यह भारत की खुफ़िया जेंसी row के अधीन होते है. इस सैन्य बल को देश मे आतंकवाद गतिविधियों को रोकने, कस्मिक युद्ध और उससे जुड़ी खुफ़िया जानकारी जुटाने के लिए प्रशिक्षित किया गया था उसके लिए उन्हें ट्रेनिंग भी गई थी ओर वर्तमान में दी भी जाती है. इस अर्धसैनिक बल का प्रशिक्षण सीधा प्रधानमंत्री करते हैं यानी यह देश मे सीधे प्रधानमंत्री के अधीन होती है.

प्रश्न 2 – स्पेशल फ्रंटियर फोर्स में किन किन चरणों मे सिलेक्शन होता है?

उत्तर – इस अर्धसैनिक बल में चयन हेतु अभियार्थी को 5 चरणों से गुजरना पड़ता है जिसके बारे मर ऊपर पूर्व में बताया गया है.

प्रश्न 3 – स्पेशल फ्रंटियर फ़ोर्स में आवेदक की आयु कितनी होनी चाहिए ?

उत्तर – इस भर्ती में आवेदन करने के लिए अभियार्थी की आयु 18 या 21 से ज्यादा एवं अधिकतम आयु 35 होनी चाहिए. इन आयु के अलावा इसमे आरक्षण के अनुसार के सारी छूट भी दी जाती है.

प्रश्न 4 – फ्रंटियर स्पेशल फ़ोर्स का एग्जाम कोनसा विभाग करवाता है ?

उत्तर – इस एग्जाम को भारत मे स्टाफ सिलेक्शन कमीशन ( SSC ) दुवारा आयोजित करवाया जाता है. 

प्रश्न 5 – फ्रंटियर स्पेशल फ़ोर्स में आवेदक की योग्यता क्या होनी चाहिये ?

उत्तर – इस भर्ती में आवेदन करने वाले विद्यार्थियों को स्नातक पास किया हुआ होना चाहिये, हालांकि इसमे यह जरूरी नही है कि अभियार्थी किस वर्ग से स्नातक किया हो या कितने नंबर से पास हुआ हो.

निष्कर्ष

इस लेख में आपको इस अर्धसैनिक बल के बारे में पूरी जानकारी दी गई है आपको बताया गया है कि इस अर्धसैनिक बल में ज्वाइन कैसे लें जिसे हम स्पेशल फ्रंटियर फोर्स के नाम से जानते है.

वर्तमान में इसमे 10,000 से ज्यादा सैनिक कार्यरत हैं. भारत मे इस फोर्स का मुख्य लक्ष्य काफी महत्वपूर्ण है को की मूल रूप से चीन देश के साथ अगले संघर्ष की तैयारी करना था एवम इसके साथ ही इसका गठन चीनी सेना की गतिविधियों को अपनी भारतीय आर्मी / सेना तक पहुंचाने के लिए किया गया था.

इस सैन्य बल को देश मे आतंकवाद गतिविधियों को रोकने, आकस्मिक युद्ध और उससे जुड़ी खुफ़िया जानकारी जुटाने के लिए प्रशिक्षित किया गया था उसके लिए उन्हें ट्रेनिंग भी गई थी ओर वर्तमान में दी भी जाती है.

उम्मीद करते है आपको यह लेख स्पेशल फ्रंटियर अफसर कैसे बने पसंद आया होगा.

इस लेख में जो भी योग्यताओं के बारे में बताया गया है उसे एक बार आधिकारिक नोटिफिकेशन के बारे में जरूर देख ले.